Home / Interview

जून 03, 2023 97 0 Marino Restrepo

विशेष साक्षात्कार: सच्ची स्वतंत्रता की ओर

मैरिनो रेस्ट्रेपो ने लगभग 20 वर्षों तक मनोरंजन उद्योग में अभिनेता, निर्माता, गीतकार और संगीतकार के रूप में काम किया। लेकिन एक दुर्भाग्यपूर्ण क्रिसमस की पूर्व संध्या पर, उसका अपहरण कर लिया गया और उन्हें कोलम्बियाई जंगल में ले जाया गया जहां उन्होंने छह महीने तक जीवित रहने के लिए संघर्ष किया … केवल एक चमत्कार ही उसकी जान बचा सकता था!

क्या आप एंडीज पर्वतों के एक छोटे से कॉफी उत्पादक शहर में बीते अपने बचपन के बारे में बता सकते हैं?

मैं कोलम्बिया में एक बड़े कैथलिक परिवार में पला-बढ़ा; दस संतानों में से मैं छठवीं हूँ। चूँकि मेरे शहर में केवल कैथलिक थे, मैं किसी अन्य धर्म या विश्वास को नहीं जानता था। कैथलिक विश्वास हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा था। हम हर दिन गिरजाघर के सेवा कार्यों में सक्रिय थे, लेकिन मेरे लिए तब कैथलिक विश्वास, आध्यात्मिकता से अधिक एक सम्प्रदाय मात्र था। 14 साल की उम्र में, जब हम कोलंबिया की राजधानी बोगोटा चले गए, मैंने गिरजाघर जाना कम कर दिया। मुझे इस बारे में कोई जानकारी नहीं थी कि दुनिया में क्या चल रहा है, इसलिए मैंने जो भी नई चीजें देखीं, उन्हें देखकर मैं मोहित हो गया। हिप्पी, रॉक एंड रोल और सभी प्रकार के स्वच्छन्द यौन-संबंधों ने मुझे मोहित और आकर्षित किया। जल्द ही मैं पूरी तरह से विश्वास से दूर हो गया और गिरजाघर वापस नहीं गया।

पूर्वी धर्मों और आध्यात्मिकता के बारे में ऐसा क्या था जिसने आपको वास्तव में मोहित किया और आकर्षित किया?

सभी पूर्वी धर्मों ने मुझे आकर्षित किया, विशेष रूप से योग के माध्यम से हिंदू धर्म ने। मैंने महाभारत और भगवत गीता पढ़ना शुरू किया। पहले तो सिर्फ इसके साहित्य और दर्शन की सुंदरता ने मुझे आकर्षित किया और फिर यह मेरे लिए कर्मकांड बन गया। मैंने उन गुरुओं का अनुसरण करना शुरू किया जिनकी शिक्षाओं ने मुझे कैथलिक विश्वास से और दूर कर दिया। तब तक मैंने यह विश्वास करना बंद कर दिया था कि येशु ईश्वर थे। इसके बजाय, मैंने उन्हें सिर्फ एक नबी के रूप में माना।

क्या आप हमें हॉलीवुड में अपने अनुभवों के बारे में बता सकते हैं?

लॉस ऐन्जेलिस में जाने के तुरंत बाद, मैं कुछ महत्वपूर्ण लोगों से जुड़ा, जिन्होंने मुझे व्यवसाय के बहुत सारे अवसर दिए। सोनी म्यूजिक ने मुझे 1985 में एक विशेष कलाकार के रूप में अनुबंधित किया। उन्होंने मेरे कई रिकॉर्ड जारी किए और मैंने एक बहुत ही सफल संगीत कैरियर का आनंद लेते हुए दुनिया का दौरा किया। जब मैं यात्रा या रिकॉर्डिंग नहीं करता था, तब मैं हॉलीवुड में अभिनय करता रहा, पटकथा लिखता रहा और फिल्में बनाता रहा। चूंकि कैलिफोर्निया नए युग के आंदोलन का वैश्विक केंद्र था, इसलिए मैं इसके जादू और रहस्य में और अधिक डूब गया।

1997 की क्रिसमस की पूर्व संध्या पर आपके जीवन में बहुत ही भीषण मोड़ आया। उस रात को क्या हुआ था?

मैं अपने परिवार के साथ क्रिसमस के लिए कोलंबिया में घर वापस आ गया था। जैसे ही मैं अपने गृहनगर के पास अपने चाचा के कॉफी बागान के गेट से मेरे घर की ओर गाड़ी चला रहा था, छह लोग मशीन गन के साथ जंगल से बाहर निकले, मेरे लैंड क्रूजर गाड़ी में जबरन घुस गए और मुझे उनके साथ जाने के लिए मजबूर किया। सड़क से कुछ दूर, उन्होंने मेरी गाड़ी छोड़ दी और मुझे अपने साथ पैदल जाने के लिए विवश किया। हम पहाड़ियों और जंगलों से होते हुए, घंटो तक पैदल चलते रहे और अंत में एक छोटी सी गुफा तक पहुँचे। आखिरकार पैदल चलना बंद करने से मुझे राहत मिली, लेकिन मेरी स्थिति जल्दी ही खराब हो गई। उन्होंने मुझे उस गुफा में धकेल दिया, मेरे हाथ बांध दिए और मेरे सिर पर एक टोप डाल दिया। वह भयानक अनुभव था। गुफा चमगादड़ों और कीड़ों-मकड़ों से भरी हुई थी जो मुझे हर जगह काटते थे, और इससे बचना असंभव था।

उन लोगों ने मुझे गुरिल्ला विद्रोहियों के हाथों बेच दिया, जिन्होंने बड़ी फिरौती मांगी और न देने पर मेरी बहनों को जान से मारने की धमकी दी। उन्होंने मुझे बताया कि मुझे पहले ही मौत की सजा सुनाई जा चुकी है क्योंकि मैं उनके चेहरे देख चुके थे और पैसे आने की लंबी प्रक्रिया में और भी बहुत कुछ देखूंगा। जैसे ही मेरे लोग फिरौती का भुगतान करते, वे मुझे मार डालते ताकि मेरे मुक्त होने के बाद वे पकड़े न जाएँ। मैंने एक इंसान के रूप में मेरी बर्बादी को महसूस किया। यहाँ से जिंदा निकलने की कोई उम्मीद नहीं थी। मेरा परिवार गंभीर खतरे में था, और ये गुरिल्ला लोग मेरे पूरे जीवन की कमाई को चुरा लेंगे।

कैद में रहते हुए आपके क्या विचार थे? क्या वे हताशा और बर्बादी की सोच थी या आपने कभी अंधेरे के उन पलों में अपने विचारों को ईश्वर तक पहुंचाया?

कैद के पहले 15 दिनों में, मैंने कभी भी अपने विचारों को ईश्वर के प्रति बढ़ाने के बारे में नहीं सोचा। इसके बजाय, मैंने उन सभी नए युग की दिमागी शक्तियों और तकनीकों का उपयोग करने की कोशिश की जो मैंने सीखी थी। उनमें से एक भी काम नहीं आया। लेकिन एक दिन, ईश्वर एक रहस्यमय अनुभव के रूप में मेरे पास पहुंचा, जिसने मेरे जीवन को हमेशा के लिए बदल दिया।

हालाँकि मैं जागा हुआ और होश में था, फिर भी मैंने एक दर्शन देखा। कुछ दूरी पर मैंने एक पर्वत का शिखर देखा जिसके ऊपर प्रकाश का एक अद्भुत शहर बसा हुआ था। मेरी आत्मा उस शहर में रहने के लिए तरस रही थी, लेकिन वहाँ जाने का कोई रास्ता नहीं था और इसी से मैं परेशान हो गया। अचानक, मैंने पानी के तेज बहाव की आवाज सुनी, जो कई आवाजों में बदल गई, फिर सिर्फ एक आवाज में सिमट गई, जो हर जगह से आ रही थी, यहां तक कि मेरे भीतर से भी। हालाँकि मैं इतने सालों तक ईश्वर से दूर रहा था, फिर भी मुझे तुरंत पता चल गया था कि यह आवाज़ ईश्वर की थी।
वह आवाज़ मेरी अंतरात्मा को रोशन कर रही थी और मेरी आत्मा की स्थिति को प्रकट कर रही थी। ऐसा लग रहा था कि मैं ने अपने जीवन में किया गया हर काम मेरे सामने चल रहा हो और मैंने हर उस पाप के कारण होने वाले दर्द को महसूस किया जो मैंने कभी किया था, विशेष रूप से जिन्हें मैंने कभी कबूल नहीं किया था क्योंकि मैंने गिरजाघर जाना छोड़ दिया था। मैं उस पूरे प्रेम को संभाल नहीं पा रहा था जो प्रभु मुझ पर उंडेल रहा था, क्योंकि मैं खुद को बहुत अयोग्य महसूस कर रहा था, लेकिन उसने मुझे दुख में डूबने नहीं दिया। उसने मुझे अपने पास रखा, उद्धार के पूरे इतिहास को समझाया और अपनी पवित्र योजना की सुंदरता को प्रकट किया। मुझे उस चंगाई और आध्यात्मिक पोषण की आवश्यकता थी जो उसने संस्कारों में मुफ्त में दी थी। जब मैंने पाप-स्वीकार के लिए जाना बंद कर दिया, तो मेरे पापों से मुझे और दूसरों को जो नुकसान हो रहा था, मैं उसके प्रति असंवेदनशील हो गया था, और मैं और अधिक जघन्य पापों में भटकता गया था। येशु ने हमारे सभी पापों की क्षमा के लिए अपने जीवन को कुर्बान कर दिया, ताकि हम चंगे और नवीनीकृत हो सकें, और जब हम पवित्र मिस्सा बलिदान में जाते हैं और परम प्रसाद में उन्हें ग्रहण करते हैं, तो हम न केवल उस चंगाई को प्राप्त करते हैं, और हम स्वयं प्रायश्चित के साधन बन जाते हैं ताकि हम उन आत्माओं के लिए प्रार्थना कर सकें जिनको उसकी कृपा की आवश्यकता है।

जब वह दर्शन समाप्त हुए, तो मैं पूरी तरह से बदल गया था। अब मैं मारे जाने से बिल्कुल नहीं डरता था, लेकिन मुझे अनंत काल के लिए नरक में डाले जाने का डर था। इसलिए, मैंने दिल से प्रार्थना की कि मुझे फिर से पाप स्वीकार के लिए जाने का मौका मिले। अगले ही दिन वे मुझे गुफा से बाहर ले आए, मैंने फिर भी इसके बाद साढ़े पांच महीने कैद में बिताए। उन महीनों में, ईश्वर के साथ मेरा रिश्ता हर दिन गहरा होता गया। अंत में चमत्कार हुआ। मुझे एक रात अचानक रिहा कर दिया गया, बस बिना किसी स्पष्टीकरण के मुझे सड़क पर छोड़ दिया गया। मैंने महसूस किया कि ईश्वर की शक्ति मेरी रक्षा कर रही है और मैं जानता था कि मेरे शेष जीवन के लिए उसके पास एक योजना है, जो उस पापस्वीकार से शुरू होगी जिसकी मैं लालसा कर रहा था।

उस रात को चमत्कारिक रूप से बच निकलने के बाद आपका जीवन कैसे बदल गया…?

जितनी जल्दी मैं कर सकता था, मैं एक फ्रांसिस्कन मठ में पाप स्वीकार के लिए गया। जैसा कि आप कल्पना कर सकते हैं, यह मेरे जीवन का सबसे लंबा पापस्वीकार था। जब पुरोहित ने मुझे मेरे पापों से मुक्त करने के लिए अपना हाथ उठाया, तो मैंने नीचे सबसे अविश्वसनीय शोर सुना। मुझे पता था कि वे शैतान थे जो वास्तव में परेशान थे कि मुझे उनके चंगुल से छुड़ाया जा रहा है। जैसे ही पुरोहित ने क्षमा की प्रार्थना समाप्त की, वहाँ पूर्ण मौन और शांति थी।
मुझे कैथलिक कलीसिया से प्यार हो गया जिसने मुझे प्रतिदिन परम प्रसाद में मसीह की चंगा करने वाली उपस्थिति से पोषित किया। दैनिक मिस्सा के पाठों ने मेरे रहस्यमय अनुभवों की पुष्टि की और मैं और अधिक के लिए प्यासा हो गया, धर्मशिक्षा, संतों का जीवन आदि से मैंने अपने आप को प्रतिदिंग भरता रहा …

मैं कैलिफोर्निया लौट आया, लेकिन दो साल बाद, मुझे लगा कि मेरे भयानक अनुभव के बावजूद, ईश्वर मुझे कोलंबिया वापस बुला रहा है। मैं पवित्र सप्ताह की शुरुआत में वापस आया, लेकिन खजूर रविवार को पवित्र मिस्सा बलिदान के लिए वहां इतने सारे लोग थे कि मैं गिरजाघर के अन्दर नहीं जा सका। जैसे ही मैं बाहर खड़ा था, मिस्सा पूजा की केवल कुछ कुछ झलक पा रहा था, उस समय येशु मेरे पास आए और मुझे उनके साथ एक और रहस्यमय अनुभव हुआ। यह ऐसा था जैसे उनका दिल बिना शब्दों के मेरे दिल से बात कर रहा हो, लेकिन मैं सब कुछ समझता गया। येशु ने मुझे बताया कि जिस मिशन के लिए मैं पैदा हुआ था, वह अभी सिर्फ शुरू हुआ है। यह अनुभव मुझे पूरी दुनिया में ले जाएगा – मैं जिस भी स्थान पर जाऊंगा, वह स्थान पहले से ही चुना हुआ होगा, और मेरी कहानी सुनने वाला हर व्यक्ति पहले से ही अपने नाम से चुना गया होगा।

मैंने कला का अपना कैरियर छोड़ दिया और बोगोटा के महाधर्मप्रांत के साथ “पिलग्रिम्स ऑफ लव” (प्रभु द्वारा प्रकट किया गया नाम) की स्थापना करते हुए एक कैथलिक धर्म सेवक बन गया। पिछले 23 वर्षों में, मैंने हर महाद्वीप पर 121 से अधिक देशों का दौरा किया है, जैसा कि मैंने एक संगीतकार के रूप में अपने दिनों में किया था वैसा नहीं; न तो खुद को बढ़ावा देने के लिए, न ही अपनी महिमा के लिए, बल्कि उन महान कार्यों की घोषणा करने के लिए जो प्रभु ने मेरे जीवन में किए हैं।

अपने अतीत के जीवन में नए युग की आध्यात्मिकता में शामिल होने के बाद आज इसका अभ्यास करने वालों के लिए आपकी क्या सलाह होगी?

मैं 14 साल की उम्र से हिप्पी बनने के साथ 33 साल तक नए युग की प्रथाओं में शामिल था। मैं सभी को नए युग की सभी प्रथाओं से बचने की सलाह दूंगा क्योंकि उनके चारों ओर बुराई की आत्मा है। वे बहुत मोहक हैं क्योंकि वे सकारात्मक, उपचारात्मक और शक्तिशाली प्रतीत होते हैं। लेकिन वह भ्रामक है। जैसा कि संत पौलुस कहते हैं, शैतान प्रकाश के दूत की तरह वस्त्र धारण करता है। यद्यपि यह अच्छा प्रतीत होता है, लेकिन यह वास्तव में आपकी आत्मा को चोट पहुँचाता है। इसलिए मैं नए युग के किसी भी प्रकार की प्रथाओं का पालन करने के लिए नहीं बोलूँगा, क्योंकि ये वो खिड़कियां हैं जो अंधेरे में खुलती हैं, जिनसे दुष्ट आत्माएं हमारे जीवन को बर्बाद करने के लिए हमारी आत्माओं तक पहुंचती हैं।

क्या आप दृढ़ता और ईश्वर के गहरे प्रेम को प्रोत्साहित करने के लिए तीन सुझाव साझा कर सकते हैं?

दैनिक प्रार्थना ईश्वर के प्रेम में मेरी दृढ़ता को बढ़ावा देती है। मैंने प्रतिदिन माला विनती करने की आदत विकसित की है। मेरा पहला सुझाव है कि माला विनती करने के लिए व्यस्ततम दिनों में भी समय निकाल लें। मेरा दूसरा सुझाव है कि पवित्र मिस्सा बलिदान और पाप-स्वीकार के लिए बार-बार जाएँ। संस्कार हमें प्रलोभनों से लड़ने के लिए मजबूत करते हैं। मेरा तीसरा सुझाव है कि हम यह सुनिश्चित करें कि हम अपनी बात पर चल रहे हैं। एक अच्छे दिल और अच्छे इरादों के साथ एक वास्तविक ईसाई बनने के लिए, हमें हर चीज को अच्छे-अच्छे विचारों, अच्छे इरादों, अच्छी भावनाओं और अच्छी नीतियों में बदलना होगा। हम जो कुछ भी करते हैं उसमें ईश्वर की भलाई की पुष्टि होनी चाहिए, यहां तक कि हमारे चलने का तरीका, बात करने या लोगों को देखने का तरीका भी। उन्हें यह दिखना चाहिए कि हमारे जीवन के लक्ष्यों के बारे में आत्यंतिक रूप से कुछ अलग ही है।

Marino Restrepo

Marino Restrepo is a lay Catholic missionary from Bogota Colombia. He shares his amazing testimony in the Shalom World program “Jesus My Savior”.

Share: